UPS Kya Hai Aur Kaise Work Karta Hai - Full Information

Advertisement
Namaskar Dosto Mera Naam Raghav Tripathi hai Main ek IT Engineer Hoon Mujhe Digital Marketing, Designing aur Developing me accha Experience hai Mujhe Nayi technologies Sikhna Bahut pasand hai Mera Blog HindiSeHelp.com hai, Yahan par main Technology, Health aur har prakar ki Jankari Share karta hoon Yeh meri Is website par Pehli Guest post hai Aasha karta hoon ye Post aapko pasand aayegi.


टेक्नोलॉजी बहुत तेजी से आगे बढ़ती जा रही है और इस विकास के क्षेत्र में अग्रसर रहने के लिए हमे टेक्नोलॉजी से जुड़ी सभी फील्ड की हल्की फुल्की जानकारियां तो होनी ही चाहिए। आज हम आपसे Computer के ही एक पार्ट के बारे में बात करेंगे।
ups kya hai aur kaise work karta hai full guide by anubuddyhelp
आज हम आपसे UPS के बारे के बात करेंगे और जानेंगे कि यह क्या है और कैसे काम करता है साथ मे इसके कुछ Types पर भी हमे यहाँ पर आज वार्तालाप करना है।

UPS क्या है ? What is UPS in Hindi

UPS एक हार्डवेयर डिवाइज होता है जो कि Power Outage या Power में Increasing जैसे मामले में एक तरह से छोटे लेवल पर Power Backup प्रदान करेगा है। UPS की फुल फॉर्म Uninterruptible Power Supply होती है। इसे हम Battery Backup के नाम से भी जान सकते है।

सामान्यतः इसकी पावर एक पर्सनल कंप्यूटर को उसकी Main Power (जिसपर वह रन करता है) खोने पर एक Power Backup प्रदान मरता है ताकि वह कंप्यूटर कुछ मिनट तक टिक सके और उसका मालिक जाने की कंप्यूटर का मालिक कंप्यूटर को शटडाउन कर सके। इससे कंप्यूटर के ब्लास्ट होने जैसी समस्या या फिर खराब होने से समस्या से बचा जा सकता है जो कि पहले काफी ज्यादा होती थी।

Ye Bhi Padhe--
UPS की फील्ड में तो इतनी तरक्की हो चुकी है कि अब इस प्रकार के UPS भी आते है जिन्हें आप अगर कम्प्यूटर से दूर रखोगे तो भी यह काम करते है और जब Power Fail हो जाती है तो यह अपने Software की जरिये Automatic बिल्कुल Safe तरीके से आपके Computer को शटडाउन कर देते है।

आमतौर पर देखा गया है कि UPS कई सारे कंप्यूटर में ऑटोमैटिक यानी कि मॉनिटर वगेरह में इनबिल्ट रहते है लेकिन कई मामले में यह अलग रहते है मुख्यतः जब इन्हें किसी अन्य डिवाइज के किये काम मे लिया जाता है।

जब आपकी Power वापस से आती है तब आप अपना Computer चालू करते हो तब यह वपेस से चार्ज होने लग जाता है और अगली बार अचानक से Power जाने जैसे मुश्किल वक्त में आपके काम आता है।

यदि आपका कंप्यूटर एक बार UPS के डाउन होने के बाद सही से उसे कवर नहीं कर पाता है। यानी कि आपके कंप्यूटर को अच्छा पावर सप्लाई नहीं मिल रहा है तो हो सकता है आपको कई बार प्रॉब्लम आ जाए क्योंकि UPS में भी एक इनबिल्ट बैटरी रहती है जैसे चार्ज होना पड़ता है।

वैसे तो एक यूपीएस आपके कंप्यूटर का बहुत ही ज्यादा आवश्यक भाग नहीं होता है लेकिन फिर भी कंपनियां इसे उपयोग करने की सलाह देती है क्योंकि अगर आप इसे उपयोग नहीं करते हैं तो कई बार आपको परेशानी उठानी पड़ सकती है यह बिल्कुल ऐसे ही है जिस प्रकार से आपके इन्वर्टर एसी के लिए स्टेबलाइजर होता है।

UPS के अंदर एक या एक से अधिक बैटरी होती है जो कि आपके कंप्यूटर या अन्य डिवाइस को पावर बैकअप प्रदान करती है वह भी उस समय में जब उसे UPS की सबसे ज्यादा जरूरत होती है। यह बैटरी रिचार्जेबल होती है और अक्सर बदल ही जाती है लेकिन यह बैटरी लंबे समय तक चलने वाली बैटरी होती है।

इलेक्ट्रॉनिक और कंप्यूटर पर चलने वाली डिवाइस के लिए UPS काफी ज्यादा आवश्यक होता है। क्योंकि अचानक से लाइट जल जाने के कारण आपको इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस या फिर अपने कंप्यूटर में भारी क्षति पहुंच सकती है जिसे शायद कवर करना आपके लिए मुश्किल हो जाएगा।

Ye Bhi Padhe--
आपको बता दे कि UPS में Rectifier, Battery, Inverter, Static Switch or Contactor जैसे मुख्य और महत्वपूर्ण भाग होते है जो कि UPS को काम का डिवाइज बनाते है।

Types of UPS in Hindi | UPS के Types हिंदी में

UPS भी कई प्रकार के होते है जिसके बारे में हमने आपको नीचे बताया है।

1. The Standby UPS : यह सबसे ज्यादा इस्तेमाल करने वाला UPS है जो कि मुख्यतः कम्प्यूटर में ही इनबिल्ट होता है। यह मेवल मात्र तब ही On होता है जब Power Supply बन्द हो जाता है।

2. The Line Interactive UPS : यह UPS छोटे बिजनेस वगेरह में काम मे आता है जिसकी बैटरी से हमेशा आउटपुट कनेक्ट करता है। जब Power उची नीची होती है या फिर अचानक चल जाती है तो यह एक लिमिटेड समय के लिए बढ़िया तरीके से Power प्रदान करता है।

3. Standby On-Line Hybrid : यह एक शानदार और क्वालिटी फूल UPS की टेक्नोलॉजी है जो कि मुख्यतः बैटरी को स्टैंडबाई रखने के काम मे आती है। एआप इसके नाम से ही इसका काम समझ गए होंगे यह हमेशा ओन-लाइन रहकर स्टैंडबाय मोड़ मर रहा सकती है और जरूरत पड़ने पर यह न हो जाती है। यानी कि सिक्योरिटी के मामले में यह अन्य UPS से बेहतर है।

तो दोस्तो, आज हमने इस पोस्ट में UPS के बारे में कई सारी बाते जानी। उम्मीद करता हु आपको यह पोस्ट बढ़िया लगा होगा।

Agar Aapka Koi Sawal Hai To Hamare Blog Par Comment Karke Pooch Sakte Ho Hum Aapki Comment Ka Reply Bahut Hi Jald Denge.

Click to comment